एमिटी यूनिवर्सिटी पंजाब ने “द जॉयफुल जर्नी ऑफ नानी पालकीवाला (आठ दशक प्लस टू)” पर एक विशेष व्याख्यान की मेजबानी की।

author
0 minutes, 3 seconds Read
Spread the love

न्याय परिक्रमा न्यूज़ चंडीगढ

चंडीगढ़, (अच्छेलाल), एमिटी लॉ स्कूल, एमिटी यूनिवर्सिटी पंजाब ने हाल ही में एमिटी लॉ स्कूल के प्रोफेसर (डॉ.) बलराम गुप्ता द्वारा “द हैप्पी जर्नी ऑफ नानी पालकीवाला (आठ दशक प्लस टू)” शीर्षक से एक आकर्षक व्याख्यान का आयोजन किया। कार्यक्रम का उद्देश्य छात्रों को भारतीय कानूनी इतिहास की एक प्रमुख हस्ती नानी पालकीवाला के उल्लेखनीय जीवन और योगदान से परिचित कराना था। अपनी आकर्षक बातचीत में, डॉ. बलराम गुप्ता ने भारतीय संवैधानिक इतिहास में कई महत्वपूर्ण संघर्षों में महत्वपूर्ण भूमिका के लिए जाने जाने वाले प्रसिद्ध वकील नानी पालकीवाला के जीवन पर गहराई से चर्चा की। पालकीवाला की विरासत भारतीय संवैधानिक न्यायशास्त्र की आधारशिला, बुनियादी संरचना के सिद्धांत के विकास से जुड़ी है। व्याख्यान के दौरान डाॅ. गुप्ता ने उत्कृष्टता के प्रति पालकीवाला की प्रतिबद्धता पर प्रकाश डालकर उभरते वकीलों के बीच प्रेरणा की चिंगारी जलाई। सर्वश्रेष्ठ बनने के लिए पालकीवाला की अथक मुहिम दर्शकों के बीच गहराई से गूंजती है, जो किसी के कानूनी करियर में उत्कृष्टता के लिए प्रयास करने के महत्व पर जोर देती है। पालकीवाला के जीवन से अंतर्दृष्टि प्राप्त करते हुए, डॉ. गुप्ता ने आलोचनात्मक सोच के महत्व और इच्छुक वकीलों के लिए “अपने पैरों पर खड़े होकर सोचने” की क्षमता पर जोर दिया। उन्होंने एक अनुकूल निर्णय के लिए न्यायाधीश के दिमाग को भेदने की कला पर जोर दिया, एक ऐसा कौशल जिसे पालकीवाला ने अपने शानदार करियर के दौरान निखारा था। डॉ. गुप्ता ने किस्से साझा करते हुए बताया कि कैसे पालकीवाला ने अपने कानूनी कौशल और दयालु दृष्टिकोण के माध्यम से कई लोगों के जीवन में खुशी लाई। व्याख्यान ने छात्रों के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में कार्य किया, जिसमें नानी पालकीवाला के जीवन और शिक्षाओं के बारे में बहुमूल्य जानकारी दी गई। इससे उनमें अपनी कानूनी यात्रा शुरू करते समय दृढ़ संकल्प और उत्कृष्टता के प्रति प्रतिबद्धता की भावना पैदा हुई।

ब्यूरों रिपोर्टः कुमार योगेश/ अच्छे लाल/संजीव कुमार(चंडीगढ)

👆 न्याय परिक्रमा यूट्यूब चैनल पर देखिये पूरा वीडियो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *