सड़क दुर्घटनाओं में 70% लोगों की जान ओवर स्पीडिंग के कारण जाती है: डॉ. हरप्रीत भाटिया

author
0 minutes, 2 seconds Read
Spread the love

न्याय परिक्रमा न्यूज़ पंजाब

आईवीवाई अस्पताल, होशियारपुर के डॉक्टरों ने गोल्डन ऑवर कान्सेप्ट के महत्व को समझने की आवश्यकता पर बल दिया

होशियारपुर,( अच्छेलाल), “यह बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है कि पिछले 12 वर्षों में वैश्विक स्तर पर सड़क दुर्घटनाओं में 5% की गिरावट आई है, जबकि भारत में इसमें 15.3% की वृद्धि हुई है। भारत में यातायात से संबंधित सभी मौतों में से 83% सड़क दुर्घटनाओं में योगदान करती हैं।“आईवीवाई अस्पताल, होशियारपुर के डॉक्टरों की एक टीम ने आज मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए गोल्डन ऑवर कान्सेप्ट के महत्व को समझने की आवश्यकता पर बल दिया ।सीनियर कंसल्टेंट ऑर्थोपेडिक्स डॉ. हरप्रीत भाटिया ने कहा कि गोल्डन ऑवर में किसी भी दुर्घटना के बाद पहले 60 मिनट सबसे महत्वपूर्ण होते हैं। अगर सही मरीज, सही समय पर सही जगह पहुंच जाए तो बहुत सारी जिंदगियां बचाई जा सकती हैं। उन्होंने बताया कि पंजाब में सड़कें दुर्घटनाओं के मामले में बहुत घातक हैं और 2022 में पंजाब में 6122 सड़क दुर्घटनाएं हुईं और सड़क दुर्घटनाओं में 4688 मौतें हुईं। डॉ. हरप्रीत ने यह भी बताया कि सड़क दुर्घटनाओं में 70% लोगों की जान ओवर स्पीडिंग के कारण जाती है।डॉ. अनिल विर्दी सीनियर कंसल्टेंट जनरल एवं जीआई सर्जरी ने कहा कि अधिकांश दुर्घटनाओं में सिर की चोट के अलावा, जीआई चोटें , जिनका अगर पूरी तरह से प्रिपेयर ट्रॉमा सेंटर में इलाज न किया जाए तो समान रूप से घातक होती हैं। कंसल्टेंट न्यूरो सर्जरी डॉ. मोहम्मद शोएब कंसल्टेंट न्यूरो सर्जरी ने साझा किया कि, भारत में ट्रॉमा के मामलों में सिर में चोट लगने के प्रमुख मामले तेज गति से गाड़ी चलाना और सीट बेल्ट न पहनना है और यात्री कारों के चालकों की तुलना में मोटरसाइकिल चालकों के सड़क दुर्घटना में घायल होने की संभावना 26 गुना अधिक है। उचित हेलमेट पहनने से उनके जीवित रहने की संभावना 42% तक बढ़ जाती है और मस्तिष्क की चोट का खतरा 74% कम हो जाता है।सीनियर कंसल्टेंट एनेस्थीसिया डॉ मनप्रीत कौर ने बताया कि आईवीवाई अस्पताल होशियारपुर में हमारी ट्रॉमा टीम में ऑर्थोपेडिक सर्जन, जीआई सर्जन, प्लास्टिक सर्जन, न्यूरो सर्जन, एनेस्थेटिस्ट और ईआर फिजिशियन शामिल हैं और अस्पताल के पास किसी भी प्रकार के इलाज के लिए 3 मॉड्यूलर ओटी, सीटी और टेस्ला एमआरआई स्कैन हैं।

कंसल्टेंट प्लास्टिक सर्जरी डॉ. सुमित तूर ने कहा, सड़क यातायात से होने वाली मौतों के मामले में भारत विश्व में अग्रणी है। भारत में, सड़क पर 78% से अधिक वाहन दोपहिया वाहन हैं और वे लगभग 29% सड़क दुर्घटनाओं के लिए जिम्मेदार हैं। “मस्तिष्क हमारे शरीर का सबसे संवेदनशील अंग है, जो किसी भी सड़क दुर्घटना में प्रभाव में आता है। अच्छा हेलमेट पहनने और उसे ठीक से बांधने से 90 प्रतिशत दुर्घटना मामलों में जानमाल की हानि को रोका जा सकता है।कंसल्टेंट एनेस्थीसिया डॉ. हरप्रीत अटवाल ने कहा कि आईवीवाई अस्पताल होशियारपुर में 120 बिस्तर, 80 आईसीयू बिस्तर और 03 ओटीएस, आईवीवाई अस्पताल पूरे क्षेत्र में सबसे बड़ा ट्रॉमा सेवा प्रदाता है।

दुर्घटनाओं को रोकने के उपाय:·

गति पर लगाम रखें·

यातायात नियमों का पालन करें·

सीट बेल्ट पहनें·

सावधानी संकेत पढ़ें·

कारों में एंटीस्किड ब्रेक सिस्टम अपनाएं·

गाड़ियों में एयर बैग होना जरूरी है·

वाहन के पीछे रिफ्लेक्टर का प्रयोग ·

वाहन अच्छी स्थिति में होना चाहिए·

उचित साइन बोर्ड के साथ सड़कें अच्छी स्थिति में होनी चाहिए·

वाहन चलाते समय नशीली दवाओं और शराब से बचें

ब्यूरों रिपोर्टः कुमार योगेश/अच्छे लाल(पंजाब)

👆 न्याय परिक्रमा यूट्यूब चैनल पर देखिये पूरा वीडियो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *