भक्ति भाव का महाकुम्भ 76वां निरंकारी सन्त समागम

author
0 minutes, 1 second Read
Spread the love

न्याय परिक्रमा न्यूज़ समालखा पानीपत (हरियाणा)

ईश्वर के प्रति समर्पित मन ही मानवता की सच्ची सेवा कर सकता हैं। निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज

समालखा, 29 अक्तूबर, 2023:- ‘‘ईश्वर के प्रति समर्पित मन ही मानवता की सच्ची सेवा कर सकता है और एक सही मनुष्य बनकर पूरे विश्व के लिए कल्याणकारी जीवन जी सकता है।’’ यह उद्गार निरंकारी सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने 28 अक्तूबर को 76वें वार्षिक निरंकारी संत समागम के पहले दिन के मुख्य सत्र में उपस्थित विशाल मानव परिवार को सम्बोधित करते हुए व्यक्त किए।
तीन दिवसीय निरंकारी सन्त समागम का भव्य शुभारम्भ कल निरंकारी आध्यात्मिक स्थल, समालखा, में हुआ है जिसमें देश-विदेश से लाखों-लाखों की संख्या में श्रद्धालु भक्त एवं प्रभूप्रेमी सज्जन सम्मिलित हुए और सभी ने इस पावन अवसर का आनंद लिया। श्रद्धालुओं में समाज के विभिन्न वर्गों के लोगों का समावेश होने से अनेकता में एकता का सुंदर नज़ारा यहां देखने को मिल रहा है।

सत्गुरु माता जी ने फरमाया कि जीवन में सेवा एवं समर्पण का भाव अपनाने से ही सुकून आ सकता है। संसार में जब मनुष्य किसी व्यवसाय के साथ जुड़ा होता है तब वहां का समर्पण किसी भय अथवा अन्य कारण से हो सकता है जिससे सुकून प्राप्त नहीं हो सकता। भक्त के जीवन का वास्तविक समर्पण तो प्रेमाभाव में स्वयं को अर्पण कर इस परमात्मा का होकर ही हो सकता है। वास्तविक रूप में ऐसा समर्पण ही मुबारक होता है।

सत्गुरु माता जी ने इसे अधिक स्पष्टता से बताते हुए कहा कि किसी वस्तु विशेष, मान-सम्मान या उपाधि के प्रति जब हमारी आसक्ति जुड़ जाती है तब हमारे अंदर समर्पण भाव नहीं आ पाता है। वहीं अनासक्ति की भावना को धारण करने से हमारे अंदर पूर्ण समर्पण का भाव उत्पन्न हो जाता है। परमात्मा से नाता जुड़ने के उपरान्त आत्मा को अपने इस वास्तविक स्वरूप का बोध हो जाता है जिससे केवल वस्तु-विशेष ही नहीं अपितु अपने शरीर के प्रति भी वह अनासक्त भाव धारण करता है।

अंत में सत्गुरु माता जी ने कहा कि जब हम इस कायम-दायम निराकार की पहचान करके इसके प्रेमाभाव में रहेंगे, इसे हर पल महसूस करेंगे तब हमारे जीवन में आनंद, सुकून एवं आंतरिक शांति निरंतर बनी रहेगी।

सेवादल रैली

समागम के दूसरे दिन का शुभारम्भ एक आकर्षक सेवादल रैली द्वारा हुआ। इस रैली में भारतवर्ष एवं दूर देशों से आए हुए हजारों सेवादल स्वयंसेवक भाई बहनों ने हिस्सा लिया। भारतवर्ष के पुरुष स्वयंसेवकों ने खाकी एवं बहनों ने नीली वर्दी पहन कर तथा विदेशों से आये सेवादल सदस्यों ने अपनी अपनी निर्धारित वर्दियों में सुसज्जित होकर भाग लिया।

दिव्य युगल के पावन सान्निध्य में आयोजित सेवादल रैली में सत्गुरु माता सुदीक्षा जी महाराज ने शांति के प्रतीक रूप में मिशन के ध्वज को मुस्कुराते हुए फहराया।

इस रैली में सेवादल द्वारा शारीरिक व्यायाम का प्रदर्शन किया गया और मिशन की सिखलाई पर आधारित लघुनाटिकाओं द्वारा सेवा के विभिन्न आयामों को बड़े ही रोचक ढंग से उजागर किया गया। इसके अतिरिक्त सेवादल नौजवानों द्वारा विभिन्न मानवीय आकृतियों के करतब भी दिखाए गए और खेल कूद के माध्यम से सेवा के प्रति सजगता एवं जागरुकता का महत्व दर्शाया गया। अंत में बॅण्ड के धून पर सेवादल के सदस्य सत्गुरु के सामने से प्रणाम करते हुए गुजरे और अपने हृदयसम्राट सत्गुरु के प्रति सम्मान प्रकट किया।

सेवादल रैली को सम्बोधित करते हुए सत्गुरु माता जी ने कहा कि समर्पित भाव से की जाने वाली सेवा ही स्वीकार होती है। जहां कही भी सेवा की आवश्यकता हो उसके अनुसार सेवा का भाव मन में लिए हम सेवा के लिए प्रस्तुत होते हैं वही सच्ची भावना महान सेवा कहलाती है। यदि कहीं हमें लगातार एक जैसी सेवा करने का अवसर मिल भी जाता है तब हमें इसे केवल एक औपचारिकता न समझते हुए पूरी लगन से करना चाहिए क्योंकि जब हम सेवा को सेवा के भाव से करेंगे तो स्थान को महत्व शेष नहीं रह जाता। जब हम ऐसी सेवा करते हैं तो उसमें तो निश्चित रूप में उसमें मानव कल्याण का भाव निहित होता है।


सेवादल रैली का शुभारंभ प्रार्थना से किया गया जिसके बोल थे “है सतगुरु हैं भगवान” मुझको तेरे पे हैं दाता मान” तू ही आन मेरी “तू ही शान मेरी” तू ही जीवन हैं तू ही प्राण” इसके पश्चात पीटी परेड का शानदार प्रदर्शन सेवादल कें भाई बहनों कें द्वारा किया गया इसके पश्चात कई तरह कें प्रेरणादायक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गयें इसके उपरांत सेवादल का मार्चिन्ग गीत गया गया व मार्च का शानदार प्रदर्शन कदमताल कें रूप में किया गया जिसके बोल थे। “ना हिन्दू ना सिख ईसाई ना हम मुसलमान हैं “मानवता हैं धर्म हमारा हम केवल इंसान हैं” हम हैं सेवादार हम ” हैं सेवादार
इसके पूर्व सेवादल के मेंबर इंचार्ज पूज्य विनोद वोहरा ने समस्त सेवादल की ओर से सत्गुरु माता जी एवं निरंकारी राजपिता जी का सेवादल रैली के रूप में आशिष प्रदान करने के लिए शुकराना किया।

ब्यूरों रिपोर्टः मोनू कुमार/विकास राणा नोयडा/ धर्मेन्द्र अनमोल उत्तरप्रदेश /सन्दीप शर्मा दिल्ली

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *