परमात्मा जगत नियंता व सर्वत्र व्यापक हैं : सन्त रमेश भाई शुक्ला जी

author
0 minutes, 3 seconds Read
Spread the love

न्याय परिक्रमा न्यूज़ चंडीगढ

चण्डीगढ़, (अच्छेलाल), सेक्टर 20 स्थित प्राचीन श्री गुग्गा माड़ी हनुमान मन्दिर के सामने रामलीला मैदान में आयोजित श्रीमद् रामचरितमानस (रामायण) रामकथा दिव्य महोत्सव के तीसरे दिन कथा व्यास विश्वविख्यात सन्त रमेश भाई शुक्ला ने प्रवचन के दौरान कहा कि भगवान का जाति से कोई संबंध नहीं है। वह सभी जातियों पर समान कृपा करता है। संतों की सेवा करने से व्यक्ति अभावग्रस्त नहीं रहता है। रामानंद जी कबीर के गुरु थे। कबीर जी का लालन-पालन भले ही निम्न जाति में हुआ परंतु वे उच्च कोटि के विद्वान थे । ईश्वर की भक्ति किसी भी जाति का व्यक्ति कर सकता है अर्थात भगवान की पूजा करने का सबको अधिकार है। जो भगवान का सिमरन करते हैं वे सज्जन लोग होते हैं। जब- जब धर्म की हानि होती है तो भगवान अवतार लेते हैं। परमात्मा जगत नियंता है। वह सर्वत्र व्यापक है। वे केवल प्रेम से ही प्रकट होते हैं। बिना प्रेम ईश्वर को पाना असंभव है। दान करने से पुण्य तो प्राप्त होता है लेकिन ईश्वर से प्रेम करने से उसका सानिध्य प्राप्त होता है।

ब्यूरों रिपोर्टः कुमार योगेश/अच्छे लाल(चंडीगढ)

👆 न्याय परिक्रमा यूट्यूब चैनल पर देखिये पूरा वीडियो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *