संजीव चौधरी की किताब हेल्दी एवर आफ्टर- एवरग्रीन प्रिंसिपल्स ऑफ़ वाइब्रैंट लिविंग का विमोचन किया

author
0 minutes, 4 seconds Read
Spread the love

न्याय परिक्रमा न्यूज़ चंडीगढ

स्वास्थ्य विशेषज्ञ सर्वप्रिय निर्मोही ने20 वर्षों के अथक शोध के बाद अपने ज्ञान व अनुभवों को किताब में ढाला संजीव चौधरी नेये किताब अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्वास्थ्य पर आधारित किताबों के प्रकाशन के लिए प्रसिद्ध अमेरिका के हे हाउस (Hay House) पब्लिशर्स ने की है प्रकाशित

चण्डीगढ़, अच्छेलाल, स्वस्थ रहने के लिए ना तो जिम जाने की जरूरत है और ना ही डाइट चार्ट की। लाइफ स्टाइल डिसीस की तो अवधारणा ही फिजूल है। इन्हीं तथ्यों को आधार बना कर चण्डीगढ़ के लेखक संजीव चौधरी ने हेल्दी एवर आफ्टर- एवरग्रीन प्रिंसिपल्स ऑफ़ वाइब्रैंट लिविंग नामक किताब लिखी है जिसका विमोचन स्वास्थ्य विशेषज्ञ सर्वप्रिय निर्मोही ने किया। ये संजीव चौधरी द्वारा रचित दूसरी किताब है। इनकी पहली किताब बिल्डिंग ब्रांड यू थी, जिसे युवा वर्ग की भरपूर सराहना मिली थी।चण्डीगढ़ प्रेस क्लब आयोजित विमोचन समारोह के दौरान पत्रकारों को संबोधित करते हुए संजीव चौधरी ने कहा कि लाईफ स्टाईल बीमारियों की अवधारणा निरी बकवास है। आज से डेढ़ सौ वर्ष पहले जब न केमिकल युक्त भोजन था और ना ही इतनी मिलावटें या प्रदूषण आदि, तब भी इंसानों की ओसत उम्र महज 40 वर्षों की होती थी, जबकि आज का इंसान तमाम दुश्वारियों के बीच भी 70 वर्ष तक आराम से जी जाता है। उन्होंने कहा कि कैंसर के लक्षण तो 3000 साल पुरानी मिस्र की मम्मियों में भी मिले हैं। मधुमेह, हृदयाघात, क्षय रोग आदि का जिक्र भी हमारे पुराने धर्म ग्रंथों एवं साहित्यिक कृतियों में मिलता है। उन्होंने बताया कि 20 वर्षों के अथक शोध के बाद अपने ज्ञान व अनुभवों के आधार पर पाया कि स्वस्थ रहने के लिए किसी रॉकेट साइंस के अध्ययन की जरूरत नहीं है, बल्कि आम आदमी सिर्फ मदर नेचर का अनुसरण करे, तो उसके पास कोई बीमारी भी नहीं फटक सकती।संजीव चौधरी ने बताया कि उन्होंने अपनी इस नई किताब में चार पहलुओं फिजिकल, मेंटल, स्पिरिचुअल एवं सोशल हेल्थ को समेटा है, जिससे निकले निष्कर्षों के आधार पर कोई भी इंसान स्वस्थ सकता है।भविष्य की योजना के बारे में बताते हुए उन्होंने जानकारी दी कि इस किताब के बाद अपनी तीसरी रचना एक नॉवेल के रूप में प्रस्तुत करेंगे। स्वास्थ्य विशेषज्ञ एवं टीवी व रेडियो जगत के जाने-माने चेहरे स्टेट अवॉर्डी सर्वप्रिय निर्मोही ने किताब की सराहना करते हुए कहा कि ये आमजन के लिए बेहद उपयोगी साबित होगी क्योंकि आजकल हर कोई किसी न किसी स्वास्थ्य समस्या से जूझ रहा है। उन्होंने कहा कि यह किताब सरल अंग्रेजी भाषा में लिखी गई है ताकि आम व्यक्ति भी इसे समझ सके। साथ ही उन्होंने लेखक को सलाह दी कि इस किताब को जन-जन तक पहुंचाने के लिए इसका हर भाषा में अनुवाद करके प्रकाशित करवाएं, ताकि अधिकाधिक लोग इसका लाभ उठा सकें।उल्लेखनीय है कि सर्वप्रिय निर्मोही ने लगातार 13 वर्षों तक हर सप्ताह विविध भारती चण्डीगढ़ पर एफएम लाइफलाईन प्रोग्राम किया था जिसमें वे आम जनता की स्वास्थ्य संबंधी समस्याएं पीजीआई के विभाग प्रमुखों के समक्ष रखकर उनका समाधान पेश करते थे। ये कार्यक्रम बेहद लोकप्रिय व सफल सिद्ध हुआ।यहां ये भी गौरतलब है कि ये बुक अमेरिका के हे हाउस (Hay House) पब्लिशर्स ने प्रकाशित की है, जो कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर स्वास्थ्य पर आधारित किताबों के प्रकाशन के लिए प्रसिद्ध हैं। संजीव चौधरी की ये नवीनतम किताब एमेजॉन पर ऑनलाइन भी उपलब्ध है ।

ब्यूरों रिपोर्टः कुमार योगेश/अच्छे लाल(चंडीगढ)

👆 न्याय परिक्रमा यूट्यूब चैनल पर देखिये पूरा वीडियो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *