बीजेपी के जुमलों को भली प्रकार से समझ चुकी है जनता: कुमारी सैलजा

author
0 minutes, 2 seconds Read
Spread the love

न्याय परिक्रमा न्यूज़ सिरसा

कुमारी सैलजा ने की ऐलनबाद के गांवों में जनसभाएं

सिरसा, (अच्छेलाल), अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी की महासचिव एवं सिरसा लोकसभा क्षेत्र से कांग्रेस उम्मीदवार कुमारी सैलजा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जाति व धर्म के नाम पर देश को बांटने का काम कर रहे हैं, जबकि कांग्रेस ने हमेशा 36 बिरादरी को जोड़ने का काम किया है। हम भाईचारे को बढ़ावा देते है। राजनीति अगल बात है पर भाईचारा राजनीति से ऊपर उठकर कायम रखना है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस के सत्ता में आने के बाद किसानों, मजदूरों, गरीबों व महिलाओं की समस्याओं का मिल बैठ कर समाधान करेंगे, आपको धरने प्रदर्शन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। कुमारी सैलजा मंगलवार को ऐलनाबाद के गांव माधोसिंघाना, मल्लेकां, भूर्टवाला, पोहडका, बार एसोसिएशन परिसर, ऐलनाबाद, खारी सुरेरां, धोलपालिया सहित विधानसभा क्षेत्र में अनेक गांवों व शहरी इलाकों में जनसभाओं को संबोधित कर रही थीं। अपने संबोधन में कहा कि कुमारी सैलजा ने कहा कि पिछले दस सालों में बीजेपी ने कोई विकास कार्य करवाए नहीं किए इसलिए अब विकास की बात न करके लोगों को बेतुकी बातों से भ्रमित करने में लगे हुए है। अब लोग इनके जुमलों को समझ चुके है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा विकास और भाईचारे की बात की है। राहुल गांधी ने 10 हजार किलोमीटर की यात्रा के जरिए देश के हर कोने में रहने वाले व्यक्ति के दुख-दर्द को जाना, उसकी पीड़ा को समझा।

उसी हिसाब से कांग्रेस के घोषणा पत्र को न्याय पत्र नाम दिया, जिसमें 5 न्याय व 25 गारंटी जनता को देने का ऐलान किया गया है। कुमारी सैलजा ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने पूरे देश में इस जुमले के होर्डिंग्स लगवा दिए हैं कि वह 80 करोड़ लोगों को मुफ्त राशन दे रहे हैं। जबकि, हकीकत तो यह है कि यह राशन साल 2013 के राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत प्रदान किया जाता है, जिसे डॉ. मनमोहन सिंह ने पारित किया था और तत्कालीन मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसका विरोध किया था। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (पीएमजीकेएवाई), राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (एनएफएसए) की रीब्रांडिंग के अलावा कुछ और नहीं है। उन्होंने कहा कि आज जब आबादी 141 करोड़ है तो इसके तहत 95 करोड़ लोगों को सब्सिडी वाला राशन मिलना चाहिए, न कि सिर्फ 80 करोड़ लोगों को। कुमारी सैलजा ने कहा कि 2021 में जनगणना कराने में मोदी सरकार की विफलता के कारण ही आज केवल 81 करोड़ लोगों को राशन मिल रहा है। 14 करोड़ और भारतीय कानूनी तौर पर राशन के हकदार हैं, लेकिन मोदी सरकार की इस विफलता के कारण अपने अधिकारों से वंचित हो रहे हैं। कुमारी सैलजा ने कहा कि यह चुनाव व्यक्ति, जाति, धर्म का चुनाव नहीं है, यह सभी का चुनाव है। लोकतंत्र व संविधान बचाने का चुनाव है। किसी के फायदे या नुकसान का चुनाव नहीं है। मोदी ने साल 2014 में सत्ता हासिल करने से पहले कहा था कि हर व्यक्ति को 15 लाख देंगे, मिले क्या? हर साल 2 करोड नौकरी, यानी 10 साल में 20 करोड़ देने को कहा था, पर किसी को कुछ नहीं मिला। किसान की आमदनी दोगुनी करने को कहा था, पर आमदन आधी रह गई है। दलित, पिछड़ों की उन्नति के लिए काम करने की बात कही थी, पर कोई काम नहीं किया। कुमारी सैलजा ने कहा कि अब जनता को समझ में आ चुका है कि मोदी व आरएसएस मिलकर देश का संविधान खत्म कर देंगे, लोकतंत्र की हत्या कर देंगे। इसलिए जनता ने चुनाव में इन्हें सबक सिखाने के लिए वोट के जरिए चोट करनी है। संविधान को बचाने के लिए, आने वाली पीढियों के भविष्य की रक्षा के लिए, महंगाई से निजात पाने के लिए लोग कांग्रेस व इंडिया गठबंधन से उम्मीद लगाए हुए हैं, इसलिए ही वे साथ भी खड़े हैं। इस दौरान नोहर के विधायक अमित चचाण, पूर्व विधायक भरत सिंह बैनीवाल, पवन बैनीवाल, संतोष बैनीवाल, गोपीराम चाडीवाल, मलकील सिंह खोसा, राम सिंह सोलंकी, लाधू राम पुनियां, अनिल खोड, करनैल सिंह आदि उपस्थित थे। गुरराज खट्टर एवं प्रदीप खट्टर ने बीजेपी छोड़ थामा कांग्रेस का दामनसिरसा में पूर्व मुख्यमंत्री मनोहर लाल खटटर के नजदीकी रहे खट्टर परिवार ने बीजेपी को छोड़कर कांग्रेस का दामन थाम लिया है। कुमारी सैलजा की उपस्थिति में गुरराज खट्टर एवं प्रदीप खट्टर ने अपने साथियों के साथ भाजपा छोड़कर कांग्रेस का दामन थामा। उन्होंने कहा कि बीजेपी में कार्यकर्ता को वो मान-सम्मान नहीं मिलता जो कांग्रेस में मिलता है। कुमारी सैलजा ने कहा कि कांग्रेस में शामिल होने वालों को पूरा मान-सम्मान किया जाएगा।

ब्यूरों रिपोर्टः कुमार योगेश/अच्छे लाल(चंडीगढ)

👆 न्याय परिक्रमा यूट्यूब चैनल पर देखिये पूरा वीडियो।

Similar Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *